लोगो हम हैं निरंकारी लिरिक्स हिन्दी में

mehfil e ruhaniyat episod 4 of sant nirankari mission, 4th nirankari geet bhajan Logo Hum Hai Nirankari lyrics in hindi at just lyrics

6 अगस्त 2022 को प्रकाशित महफ़िल ए रूहानियत एपिसोड 4 के दूसरे निरंकारी गीत / भजन लोगो हम हैं निरंकारी लिरिक्स हिन्दी में अब जस्ट लिरिक्स पर उपलव्ध हैं । इस निरंकारी गीत / भजन को कई संतों ने मिलकर ने गाया है और जोगिन्दर सिंह “कमल” जी ने लिखा है ।

निरंकारी गीत भजन के आरे में जानकारी

Sr. No.ParticularsDetail
1गीत/भजन का नामलोगो हम हैं निरंकारी
2गायनMultiple saints (Chorus)
3लेखनजोगिन्दर सिंह कमल जी
4उपलक्ष्य/एल्बममहफ़िल ए रूहानियत के एपिसोड 4 (Mehfil-E-Ruhaniyat episod-4)
5तारीख6 अगस्त 2022
6copyrightSant Nirankari Mission

निरंकारी गीत भजन लोगो हम हैं निरंकारी लिरिक्स की विडियो

निरंकारी गीत भजन लोगो हम हैं निरंकारी लिरिक्स हिन्दी में

लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
किसी से वैर नहीं है
कोई भी गैर नहीं है
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी

जहां में कोई नहीं दुश्मन
सभी से भाई चारा है
जहां में कोई नहीं दुश्मन
सभी से भाई चारा है
सभी को समझें हम अपना
जगत सारा हमारा है
सभी को समझें हम अपना
जगत सारा हमारा है
यहाँ नफरत नहीं बिल्कुल
सिर्फ बस प्यार प्यार है
प्यार प्यार है…
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
किसी से वैर नहीं है
कोई भी गैर नहीं है
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी

है मानवता मज़हब अपना
सभी से प्यार करते
है मानवता मज़हब अपना
सभी से प्यार करते
सिखाया है जो सतगुरु ने
वही हर बार करते
सिखाया है जो सतगुरु ने
वही हर बार करते
हमारा सतगुरु पूरा
ये हरदम साथ साथ है
साथ साथ है….
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
किसी से वैर नहीं है
कोई भी गैर नहीं है
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी

ना झगड़ा है ज़ुबानों का
ना झगड़ा है निशानों का
न झगड़ा है ज़ुबानों का
ना झगड़ा है निशानों का
ना झगड़ा जात – पातों का
मिशन है ये इन्सानों का
ना झगड़ा जात – पातों का
मिशन है ये इन्सानों का
जिसे सब दूर कहते हैं
वही रब पास पास है
पास पास है ……
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
किसी से वैर नहीं है
कोई भी गैर नहीं है
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी
लोगो हम हैं निरंकारी
नाम के हैं व्यापारी

महफ़िल ए रूहानियत एपिसोड 4 लिरिक्स के अलावा आपको यह भी पसंद आएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.