panjabi romentic song Ulfat Da Shehar lyrics in hindi at just lyrics.पंजाबी रोमांटिक गीत उलफ़त दा शहर लिरिक्स हिन्दी में अब जस्ट लिरिक्स पर उपलब्ध हैं।
Posted inपंजाबी गीतों के लिरिक्स हिन्दी में / पंजाबी रोमांटिक गीतों के लिरिक्स हिन्दी में 

पंजाबी रोमांटिक गीत उलफ़त दा शहर लिरिक्स हिन्दी में

6 जनवरी 2024 पंजाबी रोमांटिक गीत उलफ़त दा शहर लिरिक्स हिन्दी में अब जस्ट लिरिक्स पर उपलब्ध हैं। इस पंजाबी गीत के लिरिक्स सतिन्दर सरताज जी ने लिखे हैं और सतिन्दर सरताज जी ने ही अपने सुरों से सजाया है ।

पंजाबी रोमांटिक गीत की जानकारी

क्र.सं.विषयजानकारी
1गीत का नामउलफ़त दा शहर
2गायकसतिंदर सरताज जी
3लेखकसतिंदर सरताज जी
4प्रकाशकSpeed Records
5प्रकाशन तिथि6 जनवरी 2024

पंजाबी रोमांटिक गीत उलफ़त दा शहर लिरिक्स की वीडियो

पंजाबी रोमांटिक गीत उलफ़त दा शहर लिरिक्स हिन्दी में

आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा
रूह नू जो मिली रवानी हुण इसे वैर च रेहणा
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा
रूह नू जो मिली रवानी हुण इसे वैर च रेहणा
दिल दे स्फेयाँ ते छप्पणा ऐ उफ्साने वांगू नजराने वांगू दीवानें वांगू
गज़ल दिलकशी दी भावें हाले तक्क सानूं फुरी नहीं ऐ
वाँसुरीं साहां दी पर शुक्र है के वे सुरी नहीं ऐ
मुहोबत्त नाल हो गयी साड्डी थोड़ी जेही वाक्ती
देख एद्दा के वी नी के बिल्कुल गल तुरी नहीं ऐ
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा …………….

इश्क़े ने लैणे हाले तां इम्तेहान वी
पीछेयों मिल सकदे ने कुछ करड़े फरमान वी
इश्क़े ने लैणे हाले तां इम्तेहान वी
पीछेयों मिल सकदे ने कुछ करड़े फरमान वी
हो सकदा भुगतणीयां वी पैण कोई सख्त सजामां वीरान फ़ीजामा
ऐ एजमाईश वी मेरे ख्याल च एन्नी बुरी नहीं ऐ
वाँसुरीं साहां दी पर शुक्र है के वे सुरी नहीं ऐ
मुहोबत्त नाल हो गयी साड्डी थोड़ी जेही वाक्ती
देख एद्दा के वी नी के बिल्कुल गल तुरी नहीं ऐ
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा …………….

जज्बे दे परबत्त उत्ते जम्मी ऐ नदी कोई
हसरत्त दे सफराँ नालों लम्मी ऐ नदी कोई
जज्बे दे परबत्त उत्ते जम्मी ऐ नदी कोई
हसरत्त दे सफराँ नालों लम्मी ऐ नदी कोई
पैंदी ऐ धुप तद्द वीरां दी ईक तरफ़ा ही हाले ओह बर्फ वी हाले
ताहीं पिघली नी शिद्दत दे सूरज तों खुरी नहीं ऐ
वाँसुरीं साहां दी पर शुक्र है के वे सुरी नहीं ऐ
मुहोबत्त नाल हो गयी साड्डी थोड़ी जेही वाक्ती
देख एद्दा के वी नी के बिल्कुल गल तुरी नहीं ऐ
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा …………….

मुख्तलिफ़ मसले वैसे गिणती तों बाहर नें
कुछ कोरोबार दिलां दे छुपके वी ज़ाहिर नें
मुख्तलिफ़ मसले वैसे गिणती तों बाहर नें
कुछ कोरोबार दिलां दे छुपके वी ज़ाहिर नें
वाहिद वे जुल्म है दुनियाँ ते जो कबूल वी हुंदा मकबुल वी हुंदा
चलदा खंजर शरेआम इस विच कोई लुकमी छुरी नहीं ऐ
वाँसुरीं साहां दी पर शुक्र है के वे सुरी नहीं ऐ
मुहोबत्त नाल हो गयी साड्डी थोड़ी जेही वाक्ती
देख एद्दा के वी नी के बिल्कुल गल तुरी नहीं ऐ
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा …………….

ईक गल दी लवीं मुबारक शावाशे शायरा ओये
ऐह असली कामयावीयां रोशनायाँ दायरा ओये
ईक गल दी लवीं मुबारक शावाशे शायरा ओये
ऐह असली कामयावीयां रोशनायाँ दायरा ओये
कायम जो रखेया ऐ सरताज सकून दिलां दा मजमून दिलां दा
ऐह तेरे गुलकंद शैहद महफूज ने मिश्री भुरी नहीं ऐ
वाँसुरीं साहां दी पर शुक्र है के वे सुरी नहीं ऐ
मुहोबत्त नाल हो गयी साड्डी थोड़ी जेही वाक्ती
देख एद्दा के वी नी के बिल्कुल गल तुरी नहीं ऐ

आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा
रूह नू जो मिली रवानी हुण इसे वैर च रेहणा
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा
रूह नू जो मिली रवानी हुण इसे वैर च रेहणा
दिल दे स्फेयाँ ते छप्पणा ऐ उफ्साने वांगू नजराने वांगू दीवानें वांगू
गज़ल दिलकशी दी भावें हाले तक्क सानूं फुरी नहीं ऐ
वाँसुरीं साहां दी पर शुक्र है के वे सुरी नहीं ऐ
मुहोबत्त नाल हो गयी साड्डी थोड़ी जेही वाक्ती
देख एद्दा के वी नी के बिल्कुल गल तुरी नहीं ऐ
आपां हुण लैहर च रेहणा उलफ़त दे शैहर च रेहणा …………….

पंजाबी रोमांटिक गीत उलफ़त दा शहर लिरिक्स हिन्दी में के अलावा आपको यह भी पसंद आएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *